Free b ed course
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Free b ed course भारतीय पुनर्वास परिषद (आरसीआई) ने चार साल के विशेष बीएड कोर्स को लेकर अधिसूचना जारी कर दी है। भारत में 2 साल का विशेष बीएड कोर्स स्थायी रूप से बंद कर दिया गया है। अब शिक्षक बनने के लिए चार साल का विशेष कोर्स पूरा करना होगा।

देशभर में चल रहे दो वर्षीय विशेष बीएड कोर्स को स्थायी रूप से बंद कर दिया गया है. अगले शैक्षणिक सत्र 2024-2025 से केवल चार वर्षीय विशिष्ट बीएड पाठ्यक्रमों को मंजूरी दी जाएगी। भारतीय पुनर्वास परिषद (आरसीआई) ने इस संबंध में एक नोटिस जारी किया है। देश भर के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में विशेष बीएड पाठ्यक्रम पढ़ाए जाते हैं। ये पाठ्यक्रम आरसीआई द्वारा अनुमोदित हैं। आरसीआई ने अपने सर्कुलर में स्पष्ट किया है कि यह नया पाठ्यक्रम देशभर के करीब 1000 संस्थानों और विश्वविद्यालयों के लिए लागू किया जाएगा।

Agrostarnews

वार्षिक 60000 भत्ता, पंडित दीनदयाळ उपाध्याय ‘स्वयम्’ योजना

Free b ed course भारतीय पुनर्वास परिषद (आरसीआई) के सचिव विकास त्रिवेदी ने एक सर्कुलर जारी कर यह बात कही। इस सर्कुलर में एनसीटीई ने नई शिक्षा नीति के तहत इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम (आईटीईपी) में चार साल के बीएड प्रोग्राम का प्रावधान किया है। इसलिए आरसीआई ने भी केवल चार साल का बीएड कोर्स चलाने का फैसला किया है। कहा गया है कि आगामी सत्र से केवल चार वर्षीय बीएड (विशेष शिक्षा) पाठ्यक्रम को ही आरसीआई से मान्यता मिलेगी.

स्पेशल बीएड कोर्स क्या है?

Free b ed course विशेष बीएड पाठ्यक्रम शिक्षकों को विकलांग बच्चों को पढ़ाने के लिए प्रशिक्षित करते हैं। यह पाठ्यक्रम विकलांग बच्चों की विशेष आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है। इसमें श्रवण, वाणी, दृष्टिबाधित, मानसिक विकलांगता आदि दिव्यांगों के लिए पाठ्यक्रम संचालित किये जाते हैं। आरसीआई ने कहा है कि जो संस्थान चार साल का एकीकृत बीएड विशेष शिक्षा पाठ्यक्रम (एनसीटीई के चार साल के आईटीईपी पाठ्यक्रम के समान) पेश करना चाहते हैं, वे अगले शैक्षणिक सत्र के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Agrostarnews

जल जीवन मिशन भर्ती में 10वीं 12वीं पास युवाओं के लिए गांव की टंकी पर ड्यूटी

बताया जा रहा है कि एनसीटीई स्पेशल बीएड इंटीग्रेटेड कोर्स के लिए नया सिलेबस तैयार कर रही है. इस कोर्स का संचालन आरसीआई करेगी। एनसीटीई का सिलेबस छात्रों की जरूरत के हिसाब से तैयार किया जा रहा है। Free b ed course इस संबंध में डाॅ. शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय, लखनऊ के प्रवक्ता डाॅ. यशवंत वीरोदय ने जानकारी दी है कि बीएड (विशेष शिक्षा) दो वर्षीय कोर्स के भविष्य को लेकर कार्य परिषद की बैठक में फैसला लिया जाएगा.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!