Fastag recharge cashback offers :31 जनवरी से ब्लैकलिस्ट हो जाएगा आपका FASTag, आज ही निपटा लें ये काम, जानें किन यूजर्स पर पड़ेगा असर?
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Fastag recharge cashback offers अगर आप कार चलाते हैं, तो आपके लिए जरूरी खबर है, क्योंकि 31 जनवरी 2024 से आपका FASTag ब्लैकलिस्ट हो सकता है। बता दें कि 31 जनवरी 2024 से बिना केवाईसी या फिर आधे-अधूरे केवाईसी अपडेट वाले FASTag को ब्लैकलिस्ट किया जा रहा है। इस मामले में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की ओर से बैंकों को निर्देश दिया गया है।

तुरंत करें फास्टैग अपडेट

Fastag recharge cashback offers अगर आप नहीं चाहते हैं कि सफर के दौरान कोई दिक्कत हो, तो आपको केवाईसी अपडेट कराना होगा। FASTag यूजर्स को सलाह दी जाती है कि वे अपने लेटेस्ट FASTag के लिए KYC प्रक्रिया को तुरंत पूरा कर लें। इसमें यूजर्स को बैंकों की ओर से पहले से जारी FASTag को छोड़ना होगा। 31 जनवरी की डेडलाइन के बाद लेटेस्ट FASTag अकाउंट ही एक्टिव रहेगा, जबकि पिछले सभी फास्टैग को ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा।

Agrostarnews

प्रधानमंत्री कुसुम पंम्प योजना के तहत किसानो को मिलेगि 90% सब्सिडी

क्यों ब्लैक लिस्ट हो रहे FASTag

Fastag recharge cashback offers एनएचएआई की हालिया रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि एक ही व्हीकल के लिए कई फास्टैग जारी कर दिए गए हैं। साथ ही जरूरी केवाईसी प्रक्रिया को बिना पूरे किए फास्टैग बांट दिया गया है, जो आरबीआई के नियमों का उल्लंगन है। यही वजह है कि पुराने FASTag को ब्लैकलिस्ट किया जा रहा है। साथ ही कई शिकायतें मिली हैं कि फास्टैग को जानबूझकर वाहन के विंडशील्ड पर नहीं लगाया जाता है, जिससे टोल प्लाजा पर बेवजह देरी होती है, जिससे हाईवे और एक्सप्रेसवे पर यूजर्स को दिक्कत होती है।

Agrostarnews

कौन तैयार करता है आपका क्रे‍डिट रिपोर्ट और इसे किस आधार पर तैयार किया जाता है?

98 फीसद टोल पर फास्टैग

बता दें कि देशभर में करीब 98 फीसद टोल पर फास्टैग से टोल टैक्स लिया जाता है। जबकि देशभर में करीब 8 करोड़ से ज्यादा फास्टैग यूजर्स हैं। FASTag ने पूरे देश में इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह सिस्टम ने टोल कलेक्सन को बदल दिया है।Fastag recharge cashback offers

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!